+91 0536 2240086 smdc1718@gmail.com

नियम और विनियम

  • प्रत्येक दिन सभी छात्र/छात्राओं को अनुकूल परिधान में परिचय पत्र के साथ महाविद्यालय में उपस्थित होना होंगा।
  • प्रत्येक छात्र/छात्रा को कम से कम 75% प्रतिशत व्याख्यानों में उपस्थित रहना अनिवार्य है।
  • अनुशासन समिति के सदस्यों के निर्देश पर परिचय-पत्र दिखाना होंगा।
  • साइकिल, मोटर साइकिल निर्धारित साइकिल स्टैण्ड पर खड़ी करनी होंगी।
  • धुम्रपान एवं तम्बाकू सेवन वर्जित है। दीवारों एवं ब्लैक बोर्ड पर कुछ लिखना अनुशासनहीनता मानी जायेगी।
  • कक्षा में अध्ययनरत छात्र कक्षा के भीतर मोबाइल फोन का प्रयोग नही करेगे।
  • रैगिंग गतिविधिओ में शामिल न होने सम्बन्धी शपथ-पत्र छात्र/छात्राओ एवं उनके अभिभावक को देना अनिवार्य है।
  • परिचय पत्र के फोटो पर मुख्य कुलानुशासक/सह-कुलानुशासक का हस्ताक्षर एवं मुहर अनिवार्य है, इसके बाद ही परिचय पत्र वैध होंगा।
  • अनुशासन सम्बन्धी समस्त कार्यवाही अनुशासन समिति तय करेगी।
  • किसी भी प्रकार की असत्य अथवा त्रुटिपूर्ण सूचना देने वाले अभ्यर्थी के विरुद्ध कठोर कार्यवाही की जायेगी।
  • किसी भी अभ्यर्थी को अवज्ञा (Disobedience), अकर्मण्यता (Idieness), अनुशासनहीनता (Indiscipline) तथा दुर्व्यवहार (‏‏‏Misconduct) अपराध के गुरुतानुसार कोई भी शिक्षक, विभागाध्यक्ष, अनुशासन समिति अथवा प्राचार्य अर्थदण्ड/निर्वासन/निष्कासन/विश्वविद्यालय परीक्षा से निरोधन/विश्वविद्यालय परीक्षा से निवारण दण्ड दे सकते है।
  • अनुशासनहीनता के लिए दण्डित अथवा विगत परीक्षा में अनुचित साधन प्रयोग करने वाले विद्यार्थी को महाविद्यालय में प्रवेश नही दिया जायेगा।
  • जिस अभ्यर्थी के विरुद्ध अपराधिक मामला दर्ज होगा उसे प्रवेश नही दिया जायेगा।
  • छात्र/छात्राओं को अनुशासित एवं नियंत्रित रखने तथा उसमें उत्तरदायित्व की भावना का विकास करने की लिए एक अनुशासन मण्डल का गठन किया गया है। यदि कोई 15 या उससे अधिक दिनों तक अनुपस्थित रहने, भ्रामक अंक पत्र प्रस्तुत करने तथा अनुशासनहीनता या प्रतिकूल आचरण करने की स्थिति में अनुशासन मण्डल अर्थदण्ड दे सकता है या विद्यालय से निष्कासित कर सकता है।
  • प्रवेश में प्राचार्य का निर्णय अंतिम होगा। प्रवेश प्राचार्य का विशेषधिकार है।

महाविद्यालय में अध्ययनरत नियमित छात्राओं को निर्धारित गणवेश पहनने की परम्परा है |

कुरता- गुलाबी, सलवार- सफेद, दु्पट्टा- सफेद, साड़ी- गुलाबी

शिक्षा जीवन का अनिवार्य अंग है, जिसके द्वारा हम हर क्षेत्र में तरक्की के अवसर प्राप्त होते है .शिक्षा से मनन शक्ति , चेतना , सदबुद्धि विचारशीलता तथा ज्ञान की प्राप्ति होती है।अतः शिक्षा संस्थान एक ऐसा स्थान है जहाँ पर हम सभी उक्त बातें को प्राप्त करते है.

मोहम्मद मुस्तकीम, संस्थापक, एस एम डी कालेज

शिक्षा जीवन का अनिवार्य अंग है, जिसके द्वारा हम हर क्षेत्र में तरक्की के अवसर प्राप्त होते है .शिक्षा से मनन शक्ति , चेतना , सदबुद्धि विचारशीलता तथा ज्ञान की प्राप्ति होती है।अतः शिक्षा संस्थान एक ऐसा स्थान है जहाँ पर हम सभी उक्त बातें को प्राप्त करते है.

मोहम्मद सलीम सेठ, प्रबंधक, एस एम डी कालेज

शिक्षा जीवन का मत्वपूर्ण अंग है जो हमे बचपन से लेकर व्रद्धावस्था तक अनुशासित, सयमित और प्रगतिशील बनाये रखती है। शिक्षा से मनन शक्ति , चेतना , सदबुद्धि विचारशीलता तथा ज्ञान की प्राप्ति होती है। अतः शिक्षा संस्थान एक ऐसा स्थान है । जहाँ पर हम सभी उक्त बातें को प्राप्त करते है.

मोहम्मद शमीम अध्यक्ष, एस एम डी कालेज